BREAKING NEWS -
Search




जयललिता की मौत पर श्रीनिवासन का बड़ा खुलासा,कहा-उनकी सेहत को लेकर झूठ बोला था

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता की मौत की जांच की घोषणा होने के बाद तमिलनाडु के वन मंत्री सी. श्रीनिवासन ने एक और खुलासा किया है. उनके अनुसार उन लोगों ने जयललिता के स्वास्थ्य के बारे में झूठ बोला था. जयललिता की मौत पर श्रीनिवासन का बड़ा खुलासा,कहा-उनकी सेहत को लेकर झूठ बोला था.

जयललिता की मौत पर श्रीनिवासन का बड़ा खुलासा,कहा-उनकी सेहत को लेकर झूठ बोला था

यही नहीं श्रीनिवासन ने यह भी बड़ा खुलासा किया है कि अरुण जेटली, अमित शाह, वैंकेया नायडु, राहुल गांधी और डीएमके के कई बड़े लीडर्स जयललिता से मिलने पहुंचे थे. हालांकि उन्हें भी सिर्फ शशिकला और प्रताप रेड्डी से मुलाकात करने दिया गया.

तमिलनाडु के वन मंत्री सी. श्रीनिवासन ने न सिर्फ खुलासा किया है बल्कि अपने झूठे बयान के लिए जनता से माफी भी मांगी है. श्रीनिवासन के बयान के बाद एक बार फिर जयललिता की करीबी सहयोगी रही वीके. शशिकला सवालों के घेरे में हैं.

तमिलनाडु के वन मंत्री सी. श्रीनिवासन ने तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता के अपोलो अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान उनके स्वास्थ्य के बारे में ‘झूठ’ बोलने पर लोगों से माफी मांगी है. श्रीनिवासन ने शुक्रवार को मदुरई में एक जनसभा में कहा, “हमने यह झूठ बोला था कि उन्होंने (जयललिता) इडली खाई और लोगों से मुलाकात की. सच्चाई यह है कि किसी ने भी उन्हें नहीं देखा था. ”

श्रीनिवासन ने कहा कि वह ‘उन झूठों’ के लिए लोगों से माफी मांगते हैं. उनके अनुसार, सरकार में शामिल और सत्तारूढ़ एआईएडीएमके पार्टी के सभी लोगों ने यह झूठ बोला कि वे लोग जयललिता से अपोलो अस्पताल में मिले हैं. उनके अनुसार अंतिम दिनों में किसी भी ने जयललिता से मुलाकात नहीं की थी. श्रीनिवासन ने कहा कि एआईएडीएमके के मंत्रियों और यहां तक की राष्ट्रीय नेताओं को भी अपोलो प्रमुख प्रताप रेड्डी के कमरे में बैठना पड़ता था. श्रीनिवासन ने कहा, “हमने तब झूठ बोला था ताकि पार्टी के राज को छुपाया जा सके. जयललिता के अस्पताल कक्ष में उनसे किसी ने भी मुलाकात नहीं की थी.”

आपको बता दें कि जयललिता को पिछले साल 22 सितम्बर की रात खराब स्वास्थ्य की वजह से अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था और पांच दिसम्बर को उनका निधन हो गया था. श्रीनिवासन ने कहा कि कई वर्षो से जयललिता की करीबी सहयोगी रही वी. के. शशिकला को ही उनसे मिलने दिया जाता था.

 

 




Leave a Reply

Facebook