BREAKING NEWS -
Search




अमेरिका से पहली बार तेल खरीदेगा भारत,अक्टूबर में पहुंचेगी पहली खेप

ऊर्जा जरूरतों के लिए अभी तक खाड़ी के देशों पर निर्भर भारत ने अब अमेरिका का रुख किया है। भारत का बड़ा आर्म्स सप्लायर अमेरिका अब भारत को तेल भी एक्सपोर्ट करेगा। दुनिया के तीसरे सबसे बड़े तेल आयात के लिए भारत ने अमेरिका से तेल इम्पोर्ट करने के लिए समझौता किया है। तेल की यह पहली खेप अक्टूबर में भारत पहुंचने की उम्मीद है। इस समझौते को पीएम मोदी के हालिया अमेरिका दौरे और ट्रंप के साथ मुलाकात से जोड़ कर देखा जा रहा है।अमेरिका से पहली बार तेल खरीदेगा भारत,अक्टूबर में पहुंचेगी पहली खेप।

अमेरिका से पहली बार तेल खरीदेगा भारत,अक्टूबर में पहुंचेगी पहली खेपइंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन (IOC) ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे के कुछ ही सप्ताह के अंदर यह समझौता किया है। पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने कहा था कि अमेरिका भारत को ऊर्जा उत्पादों के निर्यात पर गौर कर रहा है। आईओसी के निदेशक (वित्त) ए. के. शर्मा ने बताया, ‘हमने उत्तरी अमेरिका से 20 लाख बैरल कच्चा तेल खरीदा है। इसमें अमेरिकी मार्स क्रूड और 4,00,000 बैरल वेस्टर्न कैनेडियन सिलेक्ट शामिल है।’ उन्होंने कहा, ‘परिवहन लागत को भी जोड़ा जाए तो अमेरिकी कच्चे तेल की खरीद हमारे लिए काफी लागत प्रतिस्पर्धी है।’ शर्मा ने कहा कि अगर बाजार की स्थिति ऐसी खरीद के लिए अनुकूल रही तो कंपनी अमेरिका से और कच्चा तेल खरीदेगी।

ऐसा पहली बार हो रहा है कि भारत ने तेल के लिए अमेरिका के साथ समझौता किया है। चीन और कोरिया जैसे अन्य देश भी खाड़ी देशों से तेल न लेकर कच्चा तेल अमेरिका से आयात कर रहे हैं। बता दें कि दो साल पहले तक अमेरिका कनाडा के अलावा अन्य किसी देश को तेल नहीं बेच सकता था। बीते तीन साल में तेल की कीमतों में आई भारी गिरावट के बाद तेल कंपनियों को दिवालिया होने से बचाने के लिए ओबामा प्रशासन ने तेल बेचने के कानून में ढील देते हुए एशियाई देशों को तेल बेचने का रास्ता साफ किया था।




Leave a Reply

Facebook