BREAKING NEWS -
Search




नोएडा के इंफ्रास्ट्रक्चर की चर्चा देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है।

नोएडा के इंफ्रास्ट्रक्चर की चर्चा देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है। पिछले 20 वर्षों में नोएडा के इंफ्रास्ट्रक्चर में जो बदलाव हुए, 2002 से शहर के आधारभूत ढांचे में सुधार का आगाज हुआ और समय के साथ इसने और रफ्तार पकड़ ली। अभी शहर में 3 बड़े फ्लाइओवर हैं। 6 अंडरपास हैं। एक एलिवेटेड रोड है। मल्टीलेवल पार्किंग है।

नोएडा के इंफ्रास्ट्रक्चर की चर्चा देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है।

साथ ही कई ऐसे बड़े प्रॉजेक्ट हैं जो बहुत जल्द ही मूर्त रूप लेने वाले हैं। इससे नोएडा के विकास को और रफ्तार मिलेगी।

अंडरपास
इस समय शहर में रजनी गंधा, अट्टा, सेक्टर-37, सिटी सेंटर, एनएच-24 और सेक्टर-94 6 जैसे 6 अंडरपास हैं।

मल्टीलेवल पार्किंग
सेक्टर-18 में करीब 3000 वाहनों की क्षमता वाली मल्टीलेवल पार्किंग कुछ महीने पहले ही शुरू की गई है।

एलिवेटेड रोड
सेक्टर-30 के सामने से सेक्टर-61 तक बनाई गई 4.8 किमी लंबी एलिवेटेड रोड बनाने में अथॉरिटी का करीब 465 करोड़ का बजट खर्च हुआ है।

कालिंदी कुंज
यमुना पुल बनाया जा रहा है। इससे कालिंदी कुंज की साइड में जाम से राहत मिलेगी और दिल्ली आने-जाने के लिए लोगों को 6 लेन की सुविधा मिलेगी।




Leave a Reply

Facebook